Active Income और Passive Income क्या है? आपके लिए क्या सही है?

active income passive income kya hai hindi

एक्टिव इनकम क्या है? (What is Active Income in Hindi?)

ऐसा कोई काम जिसे आप सक्रीय रूप से कर रहे हैं और उसके आपको पैसे मिलते हैं तो उस इनकम को एक्टिव इनकम कहा जाता है।

नौकरी से प्राप्त होने वाला इनकम Active income का बड़ा उदाहरण है, इसके अलावा यदि आपकी कोई दूकान है जिसमे आपको हर रोज काम करना पड़ता है तो आप वहां active income कमा रहे हैं।

यदि एक्टिव इनकम हमारी आय का प्रमुख साधन है तो हमें लगातार काम करना पड़ेगा और लगातार मेहनत करनी पड़ेगी। यदि हम काम करना बंद कर दें तो हमारी आय भी बंद हो जायेगी।

एक्टिव इनकम के उदाहरण

एक्टिव इनकम कमाने के लिए कई तरह के काम किये जा सकते हैं जैसे:
  • नौकरी करना
  • दूकान चलाना
  • मजदूरी करना
  • सामान बेचना
  • फ्रीलांसिंग करना आदि।
इन सभी काम को करने के लिए खुद को मेहनत करनी पड़ती है और खुद का समय लगाना पड़ता है।

एक्टिव इनकम कमाने के फायदे?

आइये जानते हैं की एक्टिव इनकम कामने के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं और लोग एक्टिव इनकम के लिए क्यों काम करते हैं:
  • एक्टिव इनकम कमाने में जोखिम (risk) कम होता है।
  • हम बिना पैसा निवेश किये काम कर सकते हैं।
  • महीने के आखिर में एक निश्चित कमाई (fixed income) पा सकते हैं।
  • आय के अनुसार बजट बनाना आसान होता है।
  • ज्यादा हिसाब रखने की जरुरत नही पड़ती।
  • अपने काम के लिए किसी दुसरे को पैसे देने नही पड़ते।
  • हम बिना स्टाफ या नौकर के भी काम कर सकते हैं।
  • खुद का ऑफिस खोलना अनिवार्य नही है।
हमने ऊपर एक्टिव इनकम के फायदे तो देख लिए चलिए अब जानते हैं की एक्टिव इनकम क्या नुकसान हो सकते हैं?

एक्टिव इनकम के नुकसान?

  • कमाई सीमित होती है।
  • हम अपनी आय स्वयं की इच्छानुसार नही बढ़ा सकते।
  • जिंदगी भर काम करना पड़ता है
  • हमें हर दिन काम करना पड़ता है।
  • हमें खुद का समय लगाना पड़ता है।
  • खुद मेहनत करना पड़ता है।
  • हमें किसी दुसरे के निर्देश के अनुसार काम करना पड़ सकता है।
  • अपने और अपने परिवार के समय नही निकाल पाते।
  • नौकरी में हमें किसी और के लिए काम करना पड़ता है।
  • जब तक हम काम कर सकते हैं तब तक ही हमें पैसे मिलेंगे।

पैसिव इनकम क्या है? (What is Passive Income in Hindi?)

ऐसा कोई काम जिसे हमें सक्रिय रूप से नही करना पड़ता लेकिन फिर भी उस काम से हमें पैसे मिलते हैं तो उस इनकम को पैसिव इनकम कहा जाता है।
बैंक से मिलने वाला ब्याज पैसिव इनकम का एक उदाहरण है। इसके अलावा घर, दफ्तर, वाहन या कोई सामान किराये पर दे कर पैसे कमाना भी पैसिव इनकम का उदाहरण है।
पैसिव इनकम की सबसे ख़ास बात यह है की आपके मेहनत का फल आपको लगातार मिलता रहता है, जब काम नही कर रहे होते तब भी। आपको passive income कमाने के लिए सक्रिय होकर या स्वयं को काम नही करना पड़ता।

पैसिव इनकम कमाने के तरीके

पैसिव इनकम कमाने के लिए कई सारे काम किये जा सकते हैं जैसे:
  • बैंक से ब्याज (interest) कमाना
  • शेयर मार्केट में निवेश कर डिविडेंट कमाना
  • घर, मकान, दूकान, वाहन या कोई सामान किराये पर देकर पैसे कमाना
  • किताब लिखकर पैसे कमाना
  • एफिलिएट मार्केटिंग
  • नेटवर्क मार्केटिंग
  • किसी दुसरे के व्यवसाय में पैसा लगाकर
  • डिजिटल प्रोडक्ट जैसे फोटो, विडियो आदि बेचकर

Passive income कमाने के तरीके कई सारे हैं हम आपको इस बारे आगे भी बताते रहेंगे।

पढ़िए: Top 20 Passive Income Ideas in Hindi

पैसिव इनकम के फायदे?

  • आप खुद के मालिक होते हैं आपका कोई बॉस नही होता।
  • आप जहाँ चाहें वहां जा सकते हैं।
  • परिवार के लिए ढेर सारा समय मिलता है।
  • अपने शौक पूरे करने के लिए समय और पैसा दोनों मिलता है।
  • आप अपनी आय बढ़ा सकते हैं।
  • हर रोज ऑफिस जाने की चिंता नही रहती।
  • समय के साथ आपकी इनकम बढती जाती है।
  • अपने बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर योजना बना सकते हैं।
  • आपको पैसे के लिए नही बल्कि पैसा आपने लिए काम करता है।

पैसिव इनकम के नुकसान क्या हैं?

  • ज्यादातर पैसिव इनकम के लिए हमें पहले पैसा निवेश करना पड़ता है।
  • पैसिव इनकम कमाने के लिए शुरुआत में बहुत मेहनत करनी पड़ती है।
  • काम शुरू करते ही पैसे नही मिलते।
  • शुरुआत में अपना समय लगाना पड़ता है।
  • हमें धैर्य बनाए रखना पड़ता है।
  • हमें टीम और स्टाफ की जरूरत पड़ सकती है।

एक्टिव इनकम पैसिव इनकम में क्या सही है?

जैसा की हम सभी को पता है की अच्छी जिन्दगी जीने के लिए पैसों के साथ-साथ समय की भी जरुरत होती है। ज्यादातर लोग जिंदगीभर नौकरी करते हैं और एक्टिव इनकम के लिए काम करते हैं और सिर्फ उतना ही पैसा कमा पाते हैं जिससे घर चल सके।
नौकरी करना बुरी बात नही है लेकिन नौकरी के साथ-साथ  हर किसी को पैसिव इनकम का कोई न कोई सोर्स जरुर बनाना चाहिए। इससे एक्स्ट्रा इनकम तो होगा ही साथ में आप नौकरी से आजादी भी पा सकते हैं।
दुनिया में जितने भी अमीर लोग हैं सभी की यही सलाह है की एक्टिव इनकम की जगह पैसिव इनकम का सोर्स बनाना चाहिए और इसके लिए मेहनत करनी चाहिए।

आगे पढ़ें:
एक्टिव इनकम एंड पैसिव इनकम” के विषय पर आपकी क्या राय है हमें कमेंट करके जरुर बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

one × 3 =